0 penit-clap
0
उम्मीद

उसने थामा था मेरा हाथ उस पार जाने के लिये...

और मेरी एक ही तमन्ना थी

कि कभी किनारा न आए..।

penit.ink 0 0 penit-clap
Please login to comment.
0 Comment

You May Also like...