0 penit-clap
1
खो दिए

।।बाज़ दफा अल्फाज़ खो दिए,
घाटे में सौदा कर, बाज़ार में खो दिए,
शहर में हर शख्स मुंतज़िर में,
महफिलो ने शायर खो दिए हैं| हैरत देखो जिससे हमसफ़र समझे बैठे थे, उसी ने छीन लिए।।

penit.ink 1 0 penit-clap
Please login to comment.
3 Comments

  • thank you.

  • Brilliant! sir.

  • imaan-e-mhobaat me imaan khoo diye,
    lalach ki ladai me insaan khoo diye,
    ishaq cheez to bhoot pyaari hai faiz,
    fir bhi kai begunaah apni jaan khoo diye...

You May Also like...