0 penit-clap
0
तेरे खातिर

तेरे खातिर खुद को यो कुछ दो

हिस्सो में बाँटा है ।


एक को तझसे इश्क बहुत है ,


एक को नफ़रत ज्यदा।।

penit.ink 0 0 penit-clap
Please login to comment.
1 Comment

  • waah waah..

You May Also like...