दायरों की शिकायत

दायरों की शिकायत हमसे क्या करते हो आदि दिल की जम्मीन पर सरहदों का एह्सास हमने तुम्ही से लिया है

penit.ink 5
Please login to comment.
0 Comment

You May Also like...