मशहूरियत
0 penit-clap
1

ज़हनीयत पर शक़ लाज़मी नहीं जनाब,
कभी बैठो आशिकों की महफिल में तो सुनना
हमारी वफा के किस्से ही हमारी पहचान हैं ॥

penit.ink 1 0 penit-clap
Please login to comment.
0 Comment

You May Also like...