14 penit-clap
2
माँ

मेरी दिन भर की तकलीफो से, क्यूँ तू इतना घबराती हैं ?

मेरे काम की जिम्मेदारीयो में, तू अपनी नींद क्यू उड़ाती हैं ?


तू चिंता ना कर, तेरी ही परवरिश का नतीजा हूं,

कठिनाइयाँ झेलना जानता हूं मैं ।

कर लूंगा सारे मुकाम हासिल एक दिन,

माँ, तेरा ही तो बेटा हूं मैं ।

penit.ink 2 14 penit-clap
Please login to comment.
2 Comments

You May Also like...