19 penit-clap
3
मे बस यू ही लिखता हू
मे बस यू ही लिखता हू

मे बस यू ही लिखता हू मन हलका करने को,
ज़िम्मेदारिया ज़्यादा है अभी थोड़ी, वक़्त नही है मरने को...

penit.ink 3 19 penit-clap
Please login to comment.
0 Comment

You May Also like...