हक़ीक़त

रोया नहीं रुलाया गया हूं, बन के पसंद ठुकराया गया हूं।

penit.ink 4
Please login to comment.
0 Comment

You May Also like...