बहुत अंदर तक तबाही मचाते है वो आंसू

जो आँखों से चाहकर भी बह नहीं पाते