तुम्हें पाने के लिए हर रोज, खुद से लडकर फिर खडा़ हो जाता हूँ मैं

लेकिन वो जख्म आज भी मेरे सीने में दफ्न है, जो तुमसे मिले थें