मुद्दत से मुलाक़ात न हुई तुझसे,

इस रात भी कोई बात न हुई तुझसे |

मैंने तो अज़ल तक की इबादत तेरी,

कलमे की भी शुरुआत न हुई तुझसे ||